Saturday, August 08, 2009

जयजयवंती - द्वितीय वार्षिकोत्सव

1 comment:

सुशील कुमार छौक्कर said...

समय निकाल सके तो जरुर आऐगे जी। वैसे विजेन्द्र जी आपके ब्लोग का टेम्पलेट सिम्पल सा बहुत सुन्दर लग रहा है। हमारे को भी कुछ सुन्दर सा बनाने के लिए कुछ टिप्स दे दीजिए ना। और हाँ मौका मिले तो कुछ खाली पड़ॆ पेज को भर दीजिए। जैसे पीछे एक पोस्ट की थी।